साहित्य— स+हित+य के योग से बना है। यह किसी भाषा के वाचिक और लिखित रूप में देखा जा सकता है। भारत का संस्कृत साहित्य ऋग्वेद से आरम्भ होता है। वेदव्यास एवं वाल्मीकि जैसे ऋषियों ने महाभारत एवं रामायण जैसे महाकाव्यों की रचना की। भास, कालिदास एवं अन्य कवियों ने संस्कृत में नाटक लिखे। भक्ति साहित्य में अवधी में गोस्वामी तुलसीदास, ब्रज भाषा में सूरदास तथा रैदास, मारवाड़ी में मीराबाई, खड़ीबोली में कबीर, रसखान, मैथिली में विद्यापति आदि प्रमुख हैं। इस पृष्ठ पर भक्तकोश से सम्बंधित साहित्य की उपश्रेणियों की सूची बनायी गयी है:—

काव्य (कवियों की सूची) 

कथा 

प्रवचन

दर्शन 

लेख 

साक्षात्कार 

संस्मरण 

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.